राहुल गांधी रायबरेली से बने रहेंगे सांसद, वायनाड से दे सकते हैं इस्तीफा, यह है बड़ी वजह

भारतीय संविधान में किसी भी नागरिक को दो सीटों से चुनाव लड़ने की आजादी दी गई है, लेकिन दोनों सीटों से जीत हासिल करने पर 14 दिन के भीतर एक सीट छोड़ने का फैसला लेना होता है। राहुल गांधी को 17 जून से पहले इस्तीफा देना होगा क्योंकि 18वीं लोकसभा का पहला सत्र 15 जून के आसपास शुरू होने की संभावना है।

राहुल गांधी रायबरेली से बने रहेंगे सांसद, वायनाड से दे सकते हैं इस्तीफा, यह है बड़ी वजह

कांग्रेस नेता राहुल गांधी। (फोटो- पीटीआई)

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और सांसद राहुल गांधी ने पार्टी के लोगों की सलाह पर रायबरेली सीट को बरकरार रखेंगे और वायनाड सीट छोड़ेंगे। राहुल गांधी इस बार दोनों सीटों से जीत हासिल की है। कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में पार्टी के कई नेताओं की राय रही कि रायबरेली सीट को बनाए रखना चाहिए। यह पारिवारिक और नेहरू खानदान से भावनात्मक रिश्तों वाली सीट है। ऐसे में इसको छोड़ना उचित नहीं होगा। दूसरी तरफ केरल के कुछ नेताओं का कहना था कि राहुल गांधी को वायनाड सीट पर कब्जा रखना चाहिए और रायबरेली सीट छोड़ देनी चाहिए। 

भारतीय संविधान में किसी भी नागरिक को दो सीटों से चुनाव लड़ने की आजादी दी गई है, लेकिन दोनों सीटों से जीत हासिल करने पर 14 दिन के भीतर एक सीट छोड़ने का फैसला लेना होता है। राहुल गांधी को 17 जून से पहले इस्तीफा देना होगा क्योंकि 18वीं लोकसभा का पहला सत्र 15 जून के आसपास शुरू होने की संभावना है।

शनिवार को हुई कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में इस पर नेताओं में मतभेद रहा। केरल से कोडिक्कुन्निल सुरेश जैसे सांसदों ने राहुल गांधी के वायनाड सीट पर बने रहने का समर्थन किया, जबकि रायबरेली सीट के लिए आवाजें अधिक मुखर रहीं। उत्तर प्रदेश से कांग्रेस विधायक दल की नेता आराधना मिश्रा ने तर्क दिया कि रायबरेली गांधी परिवार की पारंपरिक सीट है, जो पीढ़ियों से चली आ रही है और राहुल गांधी को इसे अपने पास रखना चाहिए।

सूत्रों ने बताया कि नेताओं ने यह भी कहा कि राहुल गांधी का रायबरेली सीट पर कब्जा बरकरार रखना उत्तर प्रदेश में कांग्रेस के राजनीतिक उद्धार के लिए बहुत जरूरी है। यहां पर कुल 80 लोकसभा सीटे हैं।

सबसे पुरानी पार्टी के पूर्व प्रमुख राहुल गांधी ने लोकसभा चुनाव में केरल की वायनाड सीट पर भी अपना कब्जा जमाए रखा। यहां से वह सांसद के रूप में चुने गए हैं। चुनाव आयोग के मुताबिक, राहुल गांधी को 647,445 वोट या कुल मतदान का 60% वोट मिले, जबकि उनके प्रतिद्वंद्वी भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (CPI) की एनी राजा को 283,023 (26% वोट) हासिल हुए। कांग्रेस नेता ने 3,64,422 वोटों से एनी राजा को करारी शिकस्त दी।

दूसरी तरफ चुनाव आयोग के डेटा के मुताबिक, कांग्रेस नेता राहुल गांधी को रायबरेली लोकसभा सीट से 687,649 (66%) वोट हासिल हुए। वहीं, बीजेपी उम्मीदवार दिनेश प्रताप सिंह 297,619 (29%) वोट पाकर दूसरे नंबर पर रहे। राहुल गांधी ने अपनी मां और पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष और पांच बार की रायबरेली सांसद सोनिया गांधी ने स्वास्थ्य कारणों से यह सीट राहुल गांधी के लिए छोड़ दी थी और खुद राज्यसभा चली गईं।

0 Comments

Leave a Reply